आपसे निवेदन

आप चाहे छतहार में रहते हों या छतहार से बाहर, अगर आपका रिश्ता छतहार से है तो ये ब्लॉग आपका है। हम चाहते हैं कि आप छतहार के बारे में अपनी जानकारी, अपनी भावना, अपने विचार हमसे बांटें। आप अगर छतहार से बाहर रहते हैं और जिंदगी की आपाधापी में छतहार से आपका रिश्ता टूट चुका है तो हम चाहते हैं कि आप अपने बारे में हमें जानकारी भेजें ताकि ब्लॉग में हम उसे पोस्ट कर छतहार से आपका रिश्ता जोड़ सकें। हमारा मकसद इस ब्लॉग को छतहार का इनसाइक्लोपीडिया बनाना है। दुनिया के किसी भी हिस्से में बैठा कोई शख्स छतहार के बारे में अगर कोई जानकारी चाहे तो उसे अपने गांव की पक्की सूचना मिल सके। ये आपके सहयोग के बगैर संभव नहीं है। हमें इस पते पर लिखे- hkmishra@indiatimes.com

Monday, November 29, 2010

पुतुल कुमारी का शपथ ग्रहण

बांका से चुने जाने के बाद पुतुल कुमारी ने २६ नवंबर को लोकसभा सदस्य के रूप में शपथ ली। आपके लिए पेश है शपथ ग्रहण की एक्सक्लूसिव तस्वीर।

Thursday, November 25, 2010

ये दद्दा को श्रद्धांजलि है : मनोज

छतहार ग्राम पंचायत के मुखिया श्री मनोज कुमार मिश्र ने बांका लोकसभा से जीतने पर पुतुल कुमारी को बधाई दी है। श्री मिश्र ने कहा कि पुतुल जी की जीत सही मायने में दद्दा दिग्विजय बाबू को श्रद्धांजलि है। गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह की आकस्मिक निधन से बांका की सीट खाली हुई थी। चुनाव से पहले पुतुल कुमारी छतहार भी आई थीं। दिग्विजय बाबू का छतहार से आत्मीय रिश्ता था और पुतुल कुमारी ने इस रिश्ते को कायम रखने का वादा किया था।
श्री मनोज कुमार मिश्र ने बताया जल्द ही छतहार में पुतुल जी का एक अभिनंदन समारोह रखा जाएगा। छतहार के श्री पंकज सिंह, श्रीवेदानंद सिंह, श्री अनंत राय, श्री उदय, श्री पवनानंद मिश्र, श्री रोशन मिश्र, श्री ब्रजेश मिश्र समेत तमाम लोगों ने पुतुल जी को जीत की बधाई दी है। चुनाव से पहले जब छतहार आई थीं पुतुल कुमारी

अमरपुर में जनार्दन, तारापुर में नीता

बिहार में नीतीश कुमार की जो सुनामी चली उसका असर अमरपुर और तारापुर पर भी साफ देखा गया। अमरपुर में जहां जेडीयू के जनार्दन मांझी ने परचम लहराया, वहीं आरजेडी के शकुनी चौधरी अपने गढ़ तारापुर में मात खा गए।
अमरपुर में उम्मीदवारों की स्थिति
जनार्दन मांझी (जेडीयू) 47300
सुरेंद्र प्रसाद सिंह (आरजेडी) 29293
राकेश कुमार सिंह (कांग्रेस) 9583
अनिल कुमार सिंह (लोकतांत्रिक समता दल) 7898
बेबी देवी (झारखंड विकास मोर्चा प्रजातांत्रिक) 5160
मनोज आजाद (एनसीपी) 3776

सैयद आलमदार हुसैन (निर्दलीय) 3667
विनोद कुमार (लोकतांत्रिक सवर्ण समाज पार्टी) 3049
केदार प्रसाद सिंह (एसजेपी राष्ट्रीय) 1785
रमेश कुमार चौधरी (जेडीएस) 1143
जवाहरलाल पासवान (निर्दलीय) 1033
सुरेश पासवान (निर्दलीय) 920
अमित कुमार झा (इंडियन जस्टिस पार्टी) 840
पंकज कुमार (समाजवादी पार्टी) 545
तारापुर में उम्मीदवारों की स्थिति
नीता चौधरी (जेडीयू) 44582
शकुनी चौधरी (आरजेडी) 30704
संजय कुमार (कांग्रेस) 18282
रमन कुमार (जेएमएम) 9167
सुमित्रा देवी (जनवादी पार्टी सोशलिस्ट) 4089
राम प्रसाद साह (निर्दलीय) 3019
ओमप्रकाश साहनी (एनसीपी) 1776
श्रवण कुमार सिंह (इंडियन जस्जिस पार्टी) 1612
अशोक कुमार सिंह (निर्दलीय) 1415
नारायण यादव (एसयूसीआई) 1340
देव प्रकाश सिंह (लोकतांत्रिक समता दल) 1145
संजय कुमार सिंह (बीएसपी) 969
मनोज कुमाक मधुकर (समाजवादी पार्टी) 521
देवानंद सिंह (शिव सेना) 512

दद्दा को श्रद्धांजलि, जीत गईं पुतुल कुमारी

बांका लोकसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी पुतुल कुमार भारी बहुमत से विजयी हुईं। पुतुल कुमार ने अपने निकतटम प्रतिद्वंद्वी आरजेडी के जयप्रकाश नारायण को 69119 मतों से हराया। पुतुल कुमारी को कुल 2 लाख 88 हजार 958 मत मिले, जबकि जयप्रकाश नारायण को 2 लाख 19 हजार 839।
पुतुल कुमारी अपने पति और पूर्व केंद्रीय मंत्री दिग्विजय सिंह के आकस्मिक निधन की वजह से खाली हुई सीट से चुनाव मैदान में उतरी थीं। बांका में स्वर्गीय दिग्विजय बाबू के कद और उनके प्रति जनता की संवेदना को देखते हुए कांग्रेस और जेडीयू ने अपना उम्मीदवार नहीं उतारा था।
गौरतलब है कि जेडीयू से टिकट ना मिलने पर दिग्विजय बाबू बगावत कर चुनाव मैदान में उतरे थे और जीते थे। लेकिन, उनके आकस्मिक निधन के बाद जेडीयू ने उनकी पत्नी के लिए ये सीट छोड़ दिया था। जबकि, दद्दा के अंतिम संस्कार के वक्त आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव ने बांका से अपना प्रत्याशी ना खड़ा करने का जो वादा किया था, उसे तोड़कर आरजेडी सरकार में मंत्री रहे जय प्रकाश नारायण को उतार दिया। इस वादाखिलाफी की जनता ने सजा दे दी।
बांका लोकसभा चुनाव में उम्मीदवारों की स्थिति इस प्रकार रही
पुतुल कुमारी (निर्दलीय) 288958
जयप्रकाश नारायण (आरजेडी) 219839
इंद्राज सिंह सैनी (बीएसपी) 57702
नीरज कुमार (एलएसएसपी) 35593
सीपी श्रीवास्तव (निर्दलीय) 26546
प्रवीण कुमार झा निर्दलीय) 18508
घनश्याम दास (निर्दलीय) 17389

Tuesday, November 23, 2010

सिंटू बाबू के घर शहनाई

छतहार से एक खुशखबर की आई है। छतहार निवासी ब्रजेश कुमार मिश्र उर्फ सिंटू बाबू का बीती रात यानी सोमवार २२ नवंबर को शुभ तिलकोत्सव धूमधाम से संपन्न हुआ। तिलकोत्सव में सिंटू बाबू के निकटतम परिजनों के अलावा सजातीय और गांव के लोगों ने हिस्सा लिया। विवाह की तारीख अभी तय नहीं है। माना जा रहा है कि अगले साल फरवरी या मार्च का मुहूर्त निकाला जा रहा है। छतहार ब्लॉग की तरफ से सिंटू बाबू को जिंदगी की नई पारी के लिए हार्दिक शुभकामनाएं।

Saturday, November 6, 2010

छतहार में मेला शुरू

शिवाला में मां काली की पूजा के साथ छतहार में सालाना मेला शुरू हो गया। दीवाली की रात शिवाला में परंपरागत तरीके से मां की काली की पूजा हुई और सात पाठों की निशा बलि दी गई। हर साल दीवाली के अगले रोज से भैया दूज के दिन तक छतहार में मेला लगता है। मेले की तैयारी एक दिन पहले से ही शुरू हो गई थी। मिठाई की कुछ दुकानें दीवाली की सुबह ही सज गई थीं, लेकिन आज सुबह से मेले में रौनक बढ़ती गई।

छतहार में दीवाली पर मातम

जब पूरा देश दीवाली के जश्न में डूबा हुआ था, छतहार में मातम पसरा था। दीवाली के दिन एक हादसे में गांव के दस साल के छात्र हर्ष कुमार राय की मौत हो गई। कहा जाता है कि श्री गिरीन्द्र प्रसाद राय का पुत्र हर्ष दोपहर करीब दो बजे से लापता था। घरवालों ने काफी ढूंढ़ा, नहीं लेकिन वो नहीं। तब लोगों ने सोचा कि हो सकता है कहीं खेलने निकल गया हो। लेकिन, शाम चार बजे गांव की एक महिला जब पुस्तकालय के पास गोयठा ठोंकने गई तो हर्ष को बिजली की तार से लिपटा हुआ पाया। महिला ने तुरंत शोर मचाकर लोगों को इकट्ठा किया। किसी तरह तार से हर्ष के शरीर को अलग किया गया, लेकिन तब तक हर्ष का जिस्म बेजान हो चुका था। माना जाता है कि हर्ष शौच करने गया था और बिजली की तार की चपेट में आ गया।
हर्ष के आकस्मिक निधन पर छतहार शोकाकुल है। भगवान से प्रार्थना है कि हर्ष की आत्मा को शांति मिले और उनके घरवालों को दुखों का सामना करने की शक्ति मिले।

Wednesday, November 3, 2010

धनतेरस और दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं

छतहार के समस्त लोगों को धनतेरस और दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं। दीवाली शुभ हो। मां लक्ष्मी आप पर सुख और समृद्धि की वर्षा करें, यही हमारी कामना है। हमारी अपील है कि दीवाली खुशी का त्योहार है और आप इसे मिठाई और आतिशबाजी के साथ इसका जश्न मनाएं। इस जश्न में नशे और जुए को फटकने ना दें क्योंकि इसमें बर्बादी के सिवा कुछ नहीं।
दीवाली पर छतहार के लोगों के नाम मुखियाजी श्री मनोज कुमार मिश्र का संदेश आया है। पेश है आपके लिए।
video

Friday, October 29, 2010

चुनाव पूर्व मुखियाजी का संदेश

एक नवंबर को अमरपुर विधानसभा और बांका लोकसभा चुनाव के लिए वोट डाले जाएंगे। शांतिपूर्ण चुनाव के संचालन के लिए दूसरे मतदान केंद्रों की तरह छतहार पंचायत में भी व्यापक इंतजाम किए गए हैं। इस मौके पर मुखिया श्री मनोज कुमार मिश्र पंचायत के लोगों से शांतिपूर्ण मतदान की अपील की है। छतहार ब्लॉग को भेजे वीडियो संदेश में श्री मिश्र ने कहा है कि मतदाताओं को ऐसा कोई काम नहीं करना चाहिए जिससे पंचायत की छवि को बट्टा लगे। पेश है मुखिया जी का वीडियो संदेश।
video

Tuesday, October 26, 2010

अमरपुर में दिलचस्प मुकाबला

गुड़ उत्पादन में कलकत्ता की मंडी में धाक रखने वाले अमरपुर क्षेत्र में इस बार का चुनावी मुकाबला का काफी दिलचस्प है। चुनावी मैदान की तस्वीर साफ होने लगी है। सभी 14 प्रत्याशी अपनी जीत के लिए जी तोड़ कोशिश में जुट गये हैं। लगातार चार बार से जीतते आ रहे राजद के सुरेंद्र प्रसाद सिंह कुशवाहा को इस बार सीट बचाने की चुनौती मिल गयी है। जदयू ने उसी के जाति से आने वाले बेलहर के निवर्तमान विधायक जनार्दन मांझी को प्रत्याशी बनाकर राजद के वोट बैंक में सेंध लगा दी है।
हालांकि इस सीट की सीधी लड़ाई को त्रिकोण बनाने के लिए कांग्रेस प्रत्याशी एड़ी-चोटी एक किये हुए हैं। दरअसल राजद प्रत्याशी सुरेंद्र सिंह अब तक राजद वोट बैंक व अपनी जाति की मजबूत गोलबंदी से चुनाव जीतते रहे हैं। राजद की जदयू पर जीत का फासला भी कम रहा है। इस चुनाव में जदयू ने उसी जाति के बेलहर विधायक जर्नादन मांझी को अमरपुर से प्रत्याशी बनाकर नया दांव चल दिया है।
वर्तमान विधायक के पास चार चुनाव जीतने और क्षेत्र से पुराने जुड़ाव का फायदा है तो जदयू प्रत्याशी क्षेत्र के लिए नये हैं। हालांकि राजद विधायक के लिए इस बार पिछले चुनाव की तुलना में चुनौती बढ़ी है। इसका कारण उनके आधार वोट में जदयू की सेंधमारी है। जिससे मुकाबला काफी टफ हो गया है।
नये परिसमन में फुल्लीडुमर प्रखंड के चार पंचायत घटने तथा शंभूगंज के छह पंचायत बढ़ने से राजद वोट बैंक को ही आंशिक नुकसान हुआ है। इस चुनाव में भी जनता विकास के मुद्दे के साथ विधायक जी के पंद्रह साल के कार्यकाल का हिसाब ले रही है। पंद्रह साल लगातार विधायकी का एंटी इंकबैंसी भी उनके पीछे पड़ी है। जनता का मूड इस पर कितना नरम रहेगा यह जीत हार का परिणाम देगा।
इससे इतर कांग्रेस ने सवर्ण प्रत्याशी राकेश कुमार सिंह को मैदान में उतार कर जदयू की परेशानी थोड़ी बड़ा रखी है। जदयू के लिए उन्हीं की पार्टी के एनसीपी उम्मीदवार बने मनोज आजाद, निर्दलीय अनिल कुमार सिंह सहित कई दलीय टिकट से वंचित नेता भी जीत में रोड़ा अटकाने को प्रयासरत हैं तो राजद के लिए भी लोजपा नेत्री बेबी यादव, जवाहर लाल पासवान, सपा के पंकज कुमार आदि प्रत्याशी बन बाधा बने हुए हैं। इसके अलावा सजपा प्रत्याशी केदार प्रसाद सिंह, लोससपा के विनोद कुमार, इंजपा के अमित कुमार झा, सुरेश पासवान, सैयद आलमदार हुसैन, जेडीएस के रमेश कुमार चौधरी भी मैदान में उतर कर विधायक बनने को बेताब दिख रहे हैं। प्रत्याशियों के समर्थन में बड़े नेताओं की चुनावी सभा शुरू होने के बाद मुकाबले की तस्वीर और साफ दिखने लगेगी।
(ये खबर दैनिक जागरण से ली गई है। हम इसका कोई व्यावसायिक इस्तेमाल नहीं कर रहे। अगर दैनिक जागरण को कोई आपत्ति हो तो हम ब्लॉग से खबर हटाने को तैयार हैं)

अनूठा है बांका

छतहार इन दिनों चुनावी बुखार में तप रहा है। मतदाता एक नवंबर को एक साथ बांका लोकसभा उपचुनाव और अमरपुर विधानसभा चुनाव में वोट डालेंगे। हमारी कोशिश है कि चुनाव को लेकर राष्ट्रीय मीडिया में जो कुछ छप रहा है,उससे आपको अवगत कराएं। पेश है दैनिक जागरण में छपा एक लेख कि क्यों बांका है अनूठा लोकसभा।
भारतीय लोकतंत्र में शायद ही ऐसा कोई संसदीय क्षेत्र होगा, जहां पांच मर्तबा लोकसभा का उपचुनाव हुआ हो। परंतु बांका के मतदाता एक नवंबर को पांचवीं बार उपचुनाव में वोट डालेंगे। आजादी के बाद प्रथम लोकसभा का चुनाव 1952 में हुआ जब यहां से सुषमा सेन निर्वाचित हुई। 1957 से 62 तक शंकुतला देवी ने बांका का संसद में प्रतिनिधित्व किया। चौथे आम चुनाव में 1967 से 71 तक पंडित वेणी शंकर शर्मा यहां से चुनाव जीते।

पांचवीं लोक सभा चुनाव में 1971 से 73 तक शिव चंडिका प्रसाद यहां से संसद चुने गये। लेकिन वर्ष 73 में उनके निधन के बाद पहली मर्तबा यहां के लोगों को उपचुनाव का सामना करना पड़ा। वर्ष 1973 में बांका लोकसभा क्षेत्र के लिए हुए प्रथम उपचुनाव में मधुलिमए निर्वाचित हुए। वे 73 से 80 तक यहां के सांसद रहे।
वर्ष 1980 के आम चुनाव में चंद्रशेखर सिंह यहां से विजयी हुए। लेकिन वर्ष 1983 में उनके मुख्यमंत्री बनने के बाद बांका संसदीय सीट पर वर्ष 84 में दोबारा उपचुनाव हुआ और यहां से मुख्यमंत्री चंद्रशेखर सिंह की पत्‍‌नी मनोरमा सिंह संसद के रूप में निर्वाचित हुई। वर्ष 1985 में चंद्रशेखर सिंह को राजीव गांधी केन्द्रीय मंत्रिमंडल में जगह मिलने के बाद उनकी पत्नी मनोरमा देवी ने बांका सीट से इस्तीफा दे दी। तब जाकर यहां तीसरी बार वर्ष 85 में यहां लोकसभा का उपचुनाव हुआ।
लेकिन चंद्रशेखर सिंह के निधन हो जाने के बाद यहां चौथी बार वर्ष 1986 में लोकसभा का उपचुनाव हुआ और स्व. सिंह की पत्नी मनोरमा सिंह यहां से निर्वाचित हुई। 1989 एवं 91 के आम चुनाव में पूर्व प्रधानमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह के समधी प्रताप सिंह यहां से सांसद चुने गये। उसके बाद 96 में गिरधारी यादव, 99 में दिग्विजय सिंह, 04 में गिरधारी यादव एवं 2009 के संसदीय चुनाव में दिग्विजय सिंह बांका से सांसद के रूप में निर्वाचित हुए। लेकिन वर्ष 2010 में दिग्विजय सिंह के निधन हो जाने के बाद 01 नवंबर को यहां पांचवीं बार लोकसभा का उपचुनाव होना है।

तेलडीहा में नहीं कटेगा पाठा

तेलडीहा से खबर है कि वहां पाठा बलि पर रोक लगा गई है। दैनिक जागरण में 24 अक्टूबर को छपी खबर हू-बू-हू आपके लिए पेश है।
श्रीश्री 108 कृष्ण काली भगवती तेलडीहा हरवंशपुर के प्रसिद्ध दुर्गा मंदिर में विगत दिनों हुए हादसे में दर्जनों लोगों की मौत के बाद पाठा बलि पर बांका जिला प्रशासन ने मौखिक आदेश से रोक लगा दी है।
डीएम ने महानवमी के दिन पाठा बलि के क्रम में एक दर्जन से अधिक लोगों के कुचल कर मर जाने की घटना की गंभीरता से लेते हुए ऐसा आदेश दिया। इस आदेश के मद्देनजर मेढ़पति भी अब अपने पाठा की बलि नहीं देंगे। आदेश की जानकारी मेढ़पति परिवार के सदस्य सह सक्रिय व्यवस्थापक शंकर कुमार दास ने दी है। श्री दास ने बताया कि इसकी सूचना मंदिर में टांग दी गयी है।
तारापुर थाना की सीमा के समीप इस देवी मंदिर के प्रति आस्था रखने वालों में बांका, मुंगेर व भागलपुर जिले के अतिरिक्त दूर दराज के लोग शामिल हैं। इन क्षेत्रों के लाखों श्रद्धालु प्रति वर्ष यहां देवी के दर्शन के लिए आते हैं। पूजा के दौरान वहां बीस हजार से अधिक पाठे की बलि चढ़ायी जाती रही है। गत वर्ष तक वहां मेढ़ वापसी के समय भी हजारों की संख्या में पाठे की बलि दी गई थी। इस वर्ष बलि नहीं दी जा सकेगी। प्रशासन के इस निर्णय से कही खुशी तो कहीं गम का माहौल बना हुआ है।

Friday, October 22, 2010

हादसे से पहले का हाल

दोस्तो, दशहरा मैं छतहार गया था, लिहाजा ब्लॉग अपडेशन का काम नहीं हो पाया। इस बीच, एक बड़ी खबर आपको वक्त पर नहीं मिली। हालांकि, मुझे मालूम है छतहार के अपने रिश्तेदारों और टीवी-अखबारों के जरिये इस खबर से आप वाकिफ हो चुके होंगे।
मित्रो, छतहार और आसपास के इलाकों में दुर्गा पूजा धूमधाम से संपन्न हो गई, लेकिन जाने के साथ छोड़ गईं एक दुखद याद। महानवमी की शाम छतहार पंचायत के टेलडीहा मंदिर में भगदड़ मचने से भीषण हादसा हो गया। बकरे की बलि के लिए कुछ लोगों ने ऐसी हड़बड़ी मचाई कि मंदिर का ग्रिल टूट गया, लोग एक दूसरे पर गिरते चलते गए। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक १० लोग मारे गए, हालांकि चश्मदीदों के मुताबिक मरने वालों की तादाद १४ है। प्रशासन ने मरने वालों के घरवालों को एक-एक लाख की सहायता राशि देने का एलान किया है, लेकिन जान की कीमत भला किसी रकम चुकाई जा सकती है क्या।
हमारी कामना है कि टेलडीहा मां मृतकों की आत्मा को शांति दें और उनके घरवालों को नए सिरे से जिंदगी शुरू करने का ढांढ़स। मित्रों, महाअष्टमी की शाम, यानि भगदड़ से ठीक २४ घंटे पहले मैं उसी मंदिर के बाहर था और ब्लॉग के लिए तस्वीरें उतार रहा था। पेश हैं, टेलडीहा की हादसे से पहले की तस्वीरें।
मंदिर परिसर में जमा श्रद्धालुओं की भारी भीड़
श्रद्धालुओं के लिए व्यवस्था बनाते भोलेशंकर मिश्र
श्रद्धालुओं में महिलाओं की तादाद सबसे ज्यादा थी

मंदिर के ठीक बाहर का नजारा
मंदिर का बाहरी हिस्सा

Monday, October 18, 2010

मां के दरबार का दुर्गम रास्ता

महाअष्टमी के दिन तेलधिया मां के दर्शन को जातीं महिला श्रद्घालु
खेतों के बीच बनी पगडंडियों से गुजरते श्रद्धालु
दुर्गम रास्तों से गुजरते श्रद्धालु

Wednesday, October 13, 2010

चुनावी रंग में छतहार

देश अगर त्योहारों के रंग में रंगा है तो बिहार में लोकतंत्र के सबसे बड़े पर्व चुनाव के रंग में। छतहार भी इससे बचा नहीं है। हो भी क्यों ना छतहार के मतदाताओं को तो दो-दो वोट डालने हैं। अमरपुर विधानसभा से विधायक चुनने के लिए और बांका लोकसभा से सांसद चुनने के लिए। माननीय दिग्विजय सिंह के निधन से ये सीट खाली हुई है।
दिग्विजय बाबू की यादों को जिंदा रखने के लिए उनकी पत्नी श्रीमती पुतुल सिंह बतौर निर्दलीय यहां से चुनाव लड़ रही हैं। मंगलवार को पर्चा दाखिल करने से पहले उन्होंने लोकसभा क्षेत्र का सघन दौरा किया और इसी सिलसिले में वो छतहार भी आईं। अपने भाई श्री त्रिपुरारी सिंह, परिवार के अन्य लोगों और छतहार पंचायत के मुखिया श्री मनोज कुमार सिंह के साथ वो गांव के लोगों और महिलाओं से खासतौर पर मिलीं। दिग्विजय बाबू के सपनों को साकार करने का वादा किया। इस दौरान कई ऐसे पल भी आए जब उनसे मिलते हुए लोग भावुक हो गए।
श्रीमती पुतुल सिंह को जनता दल यूनाइटेड का भी समर्थन हासिल है। ऐसी चर्चा है कि कांग्रेस भी उनका समर्थन करेगी। हालांकि, बांका से अपना उम्मीदवार ना खड़ने का वादा आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव नहीं निभा पाए। दिग्विजय बाबू की अंत्येष्टि के वक्त आरजेडी सुप्रीमो ने कहा था कि अगर श्रीमती पुतुल सिंह बांका से चुनाव लड़ती हैं तो वो अपनी पार्टी का उम्मीदवार खड़ा नहीं करेंगे। लेकिन, चुनाव के एलान के बाद आरजेडी ने जयप्रकाश यादव के रूप में अपना प्रत्याशी उतार दिया है।
फिलहाल, श्रीमती पुतुल सिंह के पक्ष में सहानुभूति लहर है। लेकिन, वोट में ये कितना तब्दील हो पाएगा ये चुनाव के दिन ही पता लगेगा।
बहरहाल श्री पुतुल सिंह ने मंगलवार को अपना पर्चा दाखिल कर दिया। इस मौके पर छतहार से श्री वेदानंद सिंह उर्फ सोहन बाबू, जीवन सिंह समेत बड़ी तादाद में लोग मौजूद थे।

Sunday, September 12, 2010

सूखे से जूझता छतहार

छतहार सूखे से जूझ रहा है। सितंबर का दूसरा हफ्ता बीत रहा है, लेकिन छतहार में बारिश नहीं हुई है। लोग आसमान निहार रहे हैं। इंद्र देवता से प्रार्थना कर रहे हैं, लेकिन मेघराज का दिल नहीं पसीज रहा। रोपनी का समय बीत चुका है। मुश्किल से एकाध लोग पम्पिंग सेट के जरिये रोपनी कर पाए, लेकिन अब वो भी सूखे की भेंट चढ़ने लगा है। छतहार, टीना, मालडा, तिलधिया पंचायत के तमाम इलाकों में खेत इस बार सूने पड़ा है। मेड़ों पर ना रोपणी के गीत सुनाई दे रहे हैं ना किसानों के चेहरे पर खुशी नजर आ रही है। ज्ञात हो कि इलाके के ज्यादातर लोग खेती पर ही निर्भर हैं।
मुखिया श्री मनोज कमार मिश्र के चेहरे पर कुदरत के इस आफत से उपजी चिंता साफ देखी जा सकती है। वो कहते हैं- सरकार ने पूरे बिहार को सूखाग्रस्त तो घोषित कर दिया है, लेकिन इसका कोई फायदा किसानों को नहीं मिल रहा। रही सही कसर चुनाव आचार संहिता लागू होने के साथ हो गई है।
आपको बता दें कि इलाका सूखाग्रस्त होने का मतलब है कि बैंक किसानों को कर्ज वसूली के लिए परेशान नहीं करेंगे। सरकार किसानों को वैकल्पिक बीज सस्ते में मुहैया कराएगी। खेती के लिए उन्हें बिजली की भी पर्याप्त सुविधा दी जाएगी। लेकिन, सवाल उठता है कि अकाल की वजह से जो खेत बर्बाद हो गए, उसका क्या होगा? उसकी कैसे भरपाई होगी? अगर उपज नहीं होगी तो किसान खाएगा क्या? क्या सरकार के पास इसका कोई जवाब है?
मुखियाजी के मुताबिक इलाके के सारे नहर लगभग सूखे पड़े हैं। कुछ किसानों ने बोरिंग के जरिये खेत रोपने की कोशिश भी की, लेकिन संसाधनों की कमी आड़े आ रही है। लोग चिंता में घुले जा रहे हैं। वो टीवी पर दिल्ली और हरियाणा की बारिश देखकर ऊपर वाले के अन्याय पर आंसू बहा रहे हैं।

शिवाला में धारा पाठ

शिवाला में भादो अमावस्या पर मुखिया श्री मनोज कुमार मिश्र ने धारा पाठ का आयोजन किया। तस्वीर में हवन में आहूति देते दिख रहे हैं श्री मनोज कुमार मिश्र। फोटो : रोशन मिश्र

Monday, September 6, 2010

छतहार में चुनाव एक नवंबर को

बिहार में चुनावी बिगुल बज गया है। छह चरणों में विधानसभा चुनाव 21 अक्टूबर से 20 नवंबर तक होंगे। छतहार यानी अमर विधानसभा में चुनाव चौथे चरण में एक नवंबर को होगा। इसी दिन यहां बांका लोकसभा के लिए भी वोट डाले जाएंगे। गौरतलब है दिग्विजय सिंह के निधन की वजह से ये सीट खाली हुई थी। जहां तक बिहार में विधानसभा चुनाव का सवाल है पहले चरण का मतदान 21 अक्टू. , दूसरे चरण का 24 अक्टू. , तीसरे चरण का 28 अक्टू. , चौथे चरण का 1 नवंबर, पांचवें चरण का 9 नवंबर और छठे तथा आखरी चरण का मतदान 20 नवंबर को कराया जाएगा। मतगणना 24 नवंबर को होगी। बिहार में मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 27 नवंबर को समाप्त हो रहा है।

Sunday, August 29, 2010

आधा छतहार अंधेरे में

दोस्तो, पिछले कुछ समय से आपका ब्लॉग अपडेट नहीं हो पा रहा है, इसके लिए क्षमाप्रार्थी हूं। दरअसल, इसकी एक बड़ी वजह बिजली है। पिछले करीब एक हफ्ते से आधा छतहार अंधेरे में डूबा हुआ है। गांव का एक ट्रांसफॉर्मर खराब हो गया है, जिससे राजपूत टोला, भूमिहाल टोला, शाकद्वीपीय बिचला टोला में बिजली नहीं है। इस वजह छतहार की तस्वीरें और खबरें मिलनी बंद हो गई हैं। छतहार के मुखिया श्री मनोज कुमार मिश्र के मुताबिक ट्रांसफॉर्मर के मरम्मत या उसे बदलने वाली कोशिशें जारी हैं। इसकी खबर बिजली विभाग को भी कर दी गई है, लेकिन टीआरडब्ल्यू में फिलहाल कोई ट्रांसफॉर्मर नहीं है इस वजह से इसमें दिक्कत आ रही है। आपको बता दें कि ट्रांसफॉर्मर से संबंधित काम टीआरडब्ल्यू ही देखती है।

Tuesday, August 24, 2010

ये राखी बंधन है ऐसा

येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबलः।
तेन त्वामपिबन्धनामि रक्षे मा चल मा चल॥

छतहार के सभी भाई-बहनों को रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएं। अगर कोई पाठक रक्षाबंधन पर अपनी यादें या तस्वीरें शेयर करना चाहें तो हमें लिख भेजें। ई-मेल पता ब्लॉग की शुरुआत में ही है। हमें छाप कर प्रसन्नता होगी।

Sunday, August 15, 2010

छतहार में धूम-धाम से मना भारत पर्व

छतहार पंचायत भवन में झंडोत्तोलन करते मुखिया मनोज कुमार मिश्र
छतहार के पंचायत भवन में मुखिया श्री मनोज मिश्र और गांववासी

छतहार में स्वतंत्रता दिवस की झांकी

भारत माता की झांकी

छतहार में बच्चे पूरे हर्षोल्लास से स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर झांकी निकालते हुए

सभी फोटो रौशन मिश्र के सौजन्य से

Saturday, August 14, 2010

झंडा ऊंचा रहे हमारा

पूरा देश आजादी के रंग में रंगा हुआ है और छतहार भी इससे अछूता नहीं है। 15 अगस्त को आजादी का पर्व मनाने के लिए गांव में व्यापक पैमाने पर तैयारी की गई है। चार जगहों पर यहां झंडोत्तोलन का कार्यक्रम रखा गया है। माध्यमिक विद्यालय में झंडोत्तोलन के अलावा गीत-संगीत का भी कार्यक्रम रखा गया है। पंचायत भवन में मुखिया श्री मनोज कुमार मिश्र झंडा फहराएंगे। पंचायत के सरपंच श्रीबाबू लसौड़ा पर झंडा फहराएंगे जबकि पंचायत समिति श्री जीवन सिंह शहीद विश्वनाथ पुस्तकालय पर तिरंगा लहराएंगे। बुद्धिजीवी श्री त्रिपुरारी सिंह द्वारा गठित विचार मंच की तरफ से झंडोत्तोलन का कार्यक्रम रखा गया है। 15 अगस्त पर छतहार में होने कार्यक्रम की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट आप अपने प्रिय ब्लॉग पर देख पाएंगे। छतहार ब्लॉग की तरफ से सभी छतहारवासियों को स्वंतंत्रता दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं।

झगड़ा खुद सुलझाएं तो अच्छा

छतहार में पुलिस-पब्लिक बैठक में शामिल थानाध्यक्ष श्री अरुण कुमार राय (वर्दी में), मुखिया श्री मनोज कुमार मिश्र (दाय़ें से दूसरे), श्री जीवन सिंह (बाएं से दूसरे)
छतहार में पुलिस-पब्लिक बैठक
थानाध्यक्ष श्री अरुण कुमार राय की बात गौर से सुनते ग्रामीण।
कहते हैं आपसी झगड़े में बाहर वाले को शामिल ना किया जाए तो अच्छा होता है। छतहार में बुधवार को संपन्न पुलिस पब्लिक बैठक में शंभूगंज के थाना प्रभारी श्री अरुण कुमार राय ने गांव वालों को यही नेक सलाह दी।
पंचायत प्रमुख श्री मनोज कुमार मिश्र की अध्यक्षता में हुई बैठक में थाना प्रभारी श्री राय ने कहा कि आपसी विवाद को पंचायत स्तर पर मिल बैठ कर सुलझाना ही फायदेमंद होता है। उन्होंने कहा कि जब गांववाले किसी झगड़े को लेकर उनके पास पहुंचते हैं तो उनकी पहली प्राथमिकता होती है बातचीत के जरिये इसका समाधान ढूंढ़ने की। गांववाले भी थाना और कचहरी का चक्कर काटने की बजाए अगर संवाद के जरिये सौहार्दपूर्ण वातावरण में विवाद सुलझा लें तो ये समाज की शांति और आपासी सदभाव के हित में होगा।
उन्होंने कहा कि वो आपसी विवाद के निपटारे में गांववालों को हरसंभव मदद पहुंचाएंगे। कटु से कटु विवाद की स्थिति में भी वो तब तक इसे मुकदमेबाजी तक नहीं पहुंचने देंगे, जब तक कि सुलह के सारे रास्ते बंद नहीं हो जाते।
बैठक में गांववालों ने श्री राय से शिकायत रखी कि अक्सर सालों पुराने मामले में आधी रात को पुलिस वाले गिरफ्तारी वारंट लेकर चले आते हैं। कई मामले तो ऐसे होते हैं कि आरोपी उस केस को भूल चुका होता है। ऐसे में पुलिस के इस तरह वारंट लेकर पहुंचने और गिरफ्तारी से समाज में बदनामी होती है क्योंकि ऐसे ज्यादातर केस आपराधिक नहीं बल्कि निजी द्वेष के होते हैं। गांववालों ने मांग की कि अगर किसी के नाम पुराने मामलों का वारंट जारी होता है तो इसकी सूचना संबंधित व्यक्ति को पहले मिलनी चाहिए ताकि वो कोर्ट में सरेंडर कर उचित कानूनी कार्रवाई कर सके। इस पर थाना प्रभारी श्री राय ने गांववालों को भरोसा दिया कि वो इसे अमल में लाएंगे और पंचायत प्रतिनिधि के माध्यम से संबंधित व्यक्ति तक वारंट की जानकारी पहुंचा देंगे। लेकिन चौबीस घंटे के भीतर सरेंडर ना करने की स्थिति में पुलिस गिरफ्तारी के लिए बाध्य हो जाएगी।
बैठक की अध्यक्षता करते हुए पंचायत प्रमुख श्री मनोज कुमार मिश्र ने कहा कि उनकी शुरू से ही कोशिश रही है कि गांव में सौहार्द का माहौल बना रहे। लोग मिल बैठकर अपनी शिकायत दूर करें। इस मामले में उन्हें काफी कुछ कामयाबी भी मिली है, लेकिन इसे पूरी तरह कामयाब गांववालों की मदद से ही बनाया जा सकता है।
बैठक में मुखिया श्री मनोज कुमार मिश्र और थानाध्यक्ष श्री अरुण कुमार राय के अलावा कई गणमान्य लोग मौजूद थे। इनमें शामिल हैं श्री पंकज सिंह, प्रकाश चौधरी, बुटेरी चौधरी श्रीनारायण सिंह, मिर्जापुर से चक्रघर मिश्र, जसोधर पाठक, अरुण पाठक, भैरव मिश्र, श्यामानंद मिश्र, सच्चिदानंद मिश्र, सदानंद मिश्र, चंद्रशेखर झा, विजयमोहन मिश्र, माडला से देवेंद्र वर्मा, संजय वर्मा, टीना से गरीब मंडल, राजेश मंडल, वासुदेव रविदास, उमाकांत पासवान आदि मौजूद थे।
बैठक में 11 लोगों की कमेटी बनाई गई, जो आपसी झगड़े का निपटारा करेगी। इस कमेटी में शामिल हैं- श्रीनारायण सिंह (अध्यक्ष), केसरी किशोर तिवारी, अरुण पाठक, दिलीप झा, सच्चिदानंद मिश्र, चक्रधर मिश्र, उमाकांत पासवान, भैरव मिश्र, संजय वर्मा, छेदी चौबे और अरविंद मिश्र।
(सभी तस्वीरें रोशन मिश्र के सौजन्य से)

Friday, August 13, 2010

मुकेश के घर गूंजी किलकारी

पूरे गांव की सेहत का ख्याल रखने वाले मुकेश कुमार मिश्र के घर फिर गूंजी किलकारी। गुरुवार रात ८ बजे उन्हें पुत्ररत्न की प्राप्ति हुई है। इससे पहले मुकेश एक बेटी के पिता थे। फोन पर मिली जानकारी के मुताबिक जच्चा और बच्चा दोनों स्वस्थ्य हैं। छतहार ब्लॉग की तरफ से मुकेश परिवार को हार्दिक शुभकामनाएं।

Saturday, July 31, 2010

बोल बम

श्रावणी मेला शुरू हो चुका है। सुल्तानगंज से बाबा बैद्यनाथधाम तक हर तरफ भगवा छटा बिखरी हुई है। रोशन मिश्र के सौजन्य से हम श्रावणी मेले की चंद तस्वीरें लेकर आए हैं।
बहुत चल लिया... थोड़ा आराम हो जाए।
कांवड़ मार्ग में कांवड़ रखने का भी पर्याप्त इंतजाम रहता है
रंग बिरंगे कांवड़
श्रावणी मेले के बहाने सरकारी प्रचार.... बढ़िया है
कई कांवड़िये पूरा इंतजाम साथ लेकर चलते हैं

Saturday, July 24, 2010

शाकद्वीपीय टोला में फिर शोक, विजय बा नहीं रहे

श्री गोपाल मिश्र के आकस्मिक निधन के सदमे से छतहार का शाकद्वीपीय समाज अभी उबर भी नया पाया था कि पुरनका टोला निवासी श्री विजय मिश्र के निधन की खबर ने शाकद्वीपीय टोला को मर्माहत कर दिया। शुक्रवार यानी २३ जुलाई की रात करीब साढ़े ग्यारह बजे श्री विजय मिश्र ने आखिरी सांस ली। वो करीब ८५ साल के थे। श्री विजय मिश्र के साथ आखिरी लम्हों में उनके पुत्र श्री सुभाष मिश्र साथ मौजूद थे। छतहार ब्लॉग की तरह विजय बाबा को श्रद्धांजलि। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।

Saturday, July 10, 2010

विषहरी पूजा मंगलवार को

आज ढोल बजने के साथ ही विषहरी पूजा की उलटी गिनती शुरू हो गई। विषहरी पूजा मंगलवार यानी 13 जुलाई को है। हर साल पूजा से कुछ दिन पहले ढोल बजाने का नियम है। ढोल बजने के बाद गांव में किसी का शादी-विवाह नहीं हो सकता है। पूजा के दिन गांव को पहले बांधा जाता है और इसके बाद बकरों की बलि दी जाती है।

Wednesday, July 7, 2010

शाकद्वीपीय समाज में शोक

छतहार के शाकद्वीपीय समाज में उस वक्त शोक की लहर दौड़ गई जब यह खबर आई कि स्व. डॉ. जीवानंद मिश्र के द्वितीय सुपुत्र श्री गोपाल मिश्र अब इस दुनियां में नहीं रहे। गोपाल मिश्र का निधन आज दोपहर के करीब एक बजे टाटानगर में हो गया। 56 वर्षीय गोपाल मिश्र अपने पीछे पत्नी और दो बेटियों को छोड़ गए हैं।
पिछले महिने कोलकाता से अपनी बेटी और दामाद को लेकर टाटा लौट रहे गोपाल मिश्र की गाड़ी को एक ट्रक ने सामने से टक्कर मार दी। इसके बाद एक टैंकर भी पीछे से उनकी कार में टकरा गई। इस हादसे में उनके ड्राइवर ने मौके पर ही दम तोड़ दिया था। गोपाल मिश्र गंभीर रूप से घायल हो गए थे और परिवार के अन्य लोग आंशिक रूप से घायल हुए। उन्हें इलाज के लिए कोलकाता में भर्ती कराया गया था। बाद में उन्हें टाटा वापस ले आया गया, जहां डॉक्टरों के अथक प्रयास के बावजूद उन्हें बचाया नहीं जा सका।

Friday, July 2, 2010

याद किए गए दिग्विजय सिंह

अलविदा दिग्विजय!
छतहार मध्यविद्यालय में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में दिग्विजय सिंह को श्रद्धासुमन अर्पित करते
मुखिया श्री मनोज मिश्र








श्रद्धांजलि सभा में मौजूद छतहार के प्रबुद्धजन

Tuesday, June 29, 2010

छतहार में शोक सभा

छतहार स्कूल में दिग्विजय सिंह की याद में आज एक शोक सभा का आयोजन किया गया। इस शोक सभा में छतहार और आस-पास के गांव के हजारो लोग शामिल हुए। इस संबंध में जैसे ही हमें और जानकारी मिलेगी हम आपको इससे अवगत करएंगे।

दिग्विजय सिंह पंचतत्व में विलीन

और पंचतत्व में विलीन हो गए दिग्विजय सिंह। बिहार के दिवंगत नेता दिग्विजय सिंह का अंतिम संस्कार सोमवार को उनके पैतृक निवास जमुई जिले के गिद्घौर के नयागांव में पूरे राजकीय सम्मान से कर दिया गया। बीते गुरुवार को लंदन के एक अस्पताल में उनका निधन हो गया था।
इस मौके पर राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद, लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष रामविलास पासवान, सांसद ललन सिंह, राज्य के मंत्री नरेंद्र सिंह, सूरजभान सहित विभिन्न दलों के कई नेता उपस्थित थे।

पांच बार सांसद रहे और पूर्व केंद्रीय मंत्री दिग्विजय की अंतिम यात्रा उनके निवास से निकल नकटी नदी के श्मशान घाट पर तक गई जहां उनके अनुज कुमार त्रिपुरारी सिंह ने उन्हें मुखाग्नि दी। इस मौके पर हजारों ने अपने प्रिय नेता को अश्रुपूर्ण विदाई दी। इस मौके पर छतहार की तरफ से मुखिया श्री मनोज मिश्र और श्री पंकज सिंह शामिल हुए। रविवार की रात से ही दिवंगत नेता के पैतृक निवास पर उनके अंतिम दर्शन के लिए बड़ी तादाद लोगों का आना जारी रहा।
उनके पार्थिव शरीर को रविवार को दिल्ली से पटना लाया गया था जहां से उसे उनके संसदीय क्षेत्र बांका होते हुए गिद्घौर ले जाया गया। पटना रेलवे स्टेशन पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद सहित राज्य के कई मंत्रियों ने उन्हें श्रद्घांजलि अर्पित की।

डिस्क्लेमर - उपरोक्त तस्वीर वेबसाइट से ली गई है। तस्वीर व्यावसायिक उपयोग के लिए नहीं है। फिर भी अगर कॉपीराइट का मामला हो तो सूचित करें। तस्वीर हटा ली जाएगी।

Saturday, June 26, 2010

वो भी क्या दिन थे

ये तस्वीर हमें मनोज मिश्र से प्राप्त हुई है। ये तस्वीर तब की है जब दिग्विजय सिंह जेडीयू में थे। बताने की जरुरत नहीं बांका से लोकसभा चुनाव का टिकट ना मिलने पर दिग्विजय ने अलग राह चुन ली। आज दिग्विजय सिंह का शव लंदन से नई दिल्ली लाया गया है। पूर्वा एक्सप्रेस से उनका पार्थिव शरीर उनके गृहशहर जमुई के गिद्धौर ले जाया जाएगा, जहां पूरे राजकीय सम्मान से सोमवार को आखिरी विदाई दी जाएगी।