आपसे निवेदन

आप चाहे छतहार में रहते हों या छतहार से बाहर, अगर आपका रिश्ता छतहार से है तो ये ब्लॉग आपका है। हम चाहते हैं कि आप छतहार के बारे में अपनी जानकारी, अपनी भावना, अपने विचार हमसे बांटें। आप अगर छतहार से बाहर रहते हैं और जिंदगी की आपाधापी में छतहार से आपका रिश्ता टूट चुका है तो हम चाहते हैं कि आप अपने बारे में हमें जानकारी भेजें ताकि ब्लॉग में हम उसे पोस्ट कर छतहार से आपका रिश्ता जोड़ सकें। हमारा मकसद इस ब्लॉग को छतहार का इनसाइक्लोपीडिया बनाना है। दुनिया के किसी भी हिस्से में बैठा कोई शख्स छतहार के बारे में अगर कोई जानकारी चाहे तो उसे अपने गांव की पक्की सूचना मिल सके। ये आपके सहयोग के बगैर संभव नहीं है। हमें इस पते पर लिखे- hkmishra@indiatimes.com

Monday, November 29, 2010

पुतुल कुमारी का शपथ ग्रहण

बांका से चुने जाने के बाद पुतुल कुमारी ने २६ नवंबर को लोकसभा सदस्य के रूप में शपथ ली। आपके लिए पेश है शपथ ग्रहण की एक्सक्लूसिव तस्वीर।

Thursday, November 25, 2010

ये दद्दा को श्रद्धांजलि है : मनोज

छतहार ग्राम पंचायत के मुखिया श्री मनोज कुमार मिश्र ने बांका लोकसभा से जीतने पर पुतुल कुमारी को बधाई दी है। श्री मिश्र ने कहा कि पुतुल जी की जीत सही मायने में दद्दा दिग्विजय बाबू को श्रद्धांजलि है। गौरतलब है कि दिग्विजय सिंह की आकस्मिक निधन से बांका की सीट खाली हुई थी। चुनाव से पहले पुतुल कुमारी छतहार भी आई थीं। दिग्विजय बाबू का छतहार से आत्मीय रिश्ता था और पुतुल कुमारी ने इस रिश्ते को कायम रखने का वादा किया था।
श्री मनोज कुमार मिश्र ने बताया जल्द ही छतहार में पुतुल जी का एक अभिनंदन समारोह रखा जाएगा। छतहार के श्री पंकज सिंह, श्रीवेदानंद सिंह, श्री अनंत राय, श्री उदय, श्री पवनानंद मिश्र, श्री रोशन मिश्र, श्री ब्रजेश मिश्र समेत तमाम लोगों ने पुतुल जी को जीत की बधाई दी है। चुनाव से पहले जब छतहार आई थीं पुतुल कुमारी

अमरपुर में जनार्दन, तारापुर में नीता

बिहार में नीतीश कुमार की जो सुनामी चली उसका असर अमरपुर और तारापुर पर भी साफ देखा गया। अमरपुर में जहां जेडीयू के जनार्दन मांझी ने परचम लहराया, वहीं आरजेडी के शकुनी चौधरी अपने गढ़ तारापुर में मात खा गए।
अमरपुर में उम्मीदवारों की स्थिति
जनार्दन मांझी (जेडीयू) 47300
सुरेंद्र प्रसाद सिंह (आरजेडी) 29293
राकेश कुमार सिंह (कांग्रेस) 9583
अनिल कुमार सिंह (लोकतांत्रिक समता दल) 7898
बेबी देवी (झारखंड विकास मोर्चा प्रजातांत्रिक) 5160
मनोज आजाद (एनसीपी) 3776

सैयद आलमदार हुसैन (निर्दलीय) 3667
विनोद कुमार (लोकतांत्रिक सवर्ण समाज पार्टी) 3049
केदार प्रसाद सिंह (एसजेपी राष्ट्रीय) 1785
रमेश कुमार चौधरी (जेडीएस) 1143
जवाहरलाल पासवान (निर्दलीय) 1033
सुरेश पासवान (निर्दलीय) 920
अमित कुमार झा (इंडियन जस्टिस पार्टी) 840
पंकज कुमार (समाजवादी पार्टी) 545
तारापुर में उम्मीदवारों की स्थिति
नीता चौधरी (जेडीयू) 44582
शकुनी चौधरी (आरजेडी) 30704
संजय कुमार (कांग्रेस) 18282
रमन कुमार (जेएमएम) 9167
सुमित्रा देवी (जनवादी पार्टी सोशलिस्ट) 4089
राम प्रसाद साह (निर्दलीय) 3019
ओमप्रकाश साहनी (एनसीपी) 1776
श्रवण कुमार सिंह (इंडियन जस्जिस पार्टी) 1612
अशोक कुमार सिंह (निर्दलीय) 1415
नारायण यादव (एसयूसीआई) 1340
देव प्रकाश सिंह (लोकतांत्रिक समता दल) 1145
संजय कुमार सिंह (बीएसपी) 969
मनोज कुमाक मधुकर (समाजवादी पार्टी) 521
देवानंद सिंह (शिव सेना) 512

दद्दा को श्रद्धांजलि, जीत गईं पुतुल कुमारी

बांका लोकसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी पुतुल कुमार भारी बहुमत से विजयी हुईं। पुतुल कुमार ने अपने निकतटम प्रतिद्वंद्वी आरजेडी के जयप्रकाश नारायण को 69119 मतों से हराया। पुतुल कुमारी को कुल 2 लाख 88 हजार 958 मत मिले, जबकि जयप्रकाश नारायण को 2 लाख 19 हजार 839।
पुतुल कुमारी अपने पति और पूर्व केंद्रीय मंत्री दिग्विजय सिंह के आकस्मिक निधन की वजह से खाली हुई सीट से चुनाव मैदान में उतरी थीं। बांका में स्वर्गीय दिग्विजय बाबू के कद और उनके प्रति जनता की संवेदना को देखते हुए कांग्रेस और जेडीयू ने अपना उम्मीदवार नहीं उतारा था।
गौरतलब है कि जेडीयू से टिकट ना मिलने पर दिग्विजय बाबू बगावत कर चुनाव मैदान में उतरे थे और जीते थे। लेकिन, उनके आकस्मिक निधन के बाद जेडीयू ने उनकी पत्नी के लिए ये सीट छोड़ दिया था। जबकि, दद्दा के अंतिम संस्कार के वक्त आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव ने बांका से अपना प्रत्याशी ना खड़ा करने का जो वादा किया था, उसे तोड़कर आरजेडी सरकार में मंत्री रहे जय प्रकाश नारायण को उतार दिया। इस वादाखिलाफी की जनता ने सजा दे दी।
बांका लोकसभा चुनाव में उम्मीदवारों की स्थिति इस प्रकार रही
पुतुल कुमारी (निर्दलीय) 288958
जयप्रकाश नारायण (आरजेडी) 219839
इंद्राज सिंह सैनी (बीएसपी) 57702
नीरज कुमार (एलएसएसपी) 35593
सीपी श्रीवास्तव (निर्दलीय) 26546
प्रवीण कुमार झा निर्दलीय) 18508
घनश्याम दास (निर्दलीय) 17389

Tuesday, November 23, 2010

सिंटू बाबू के घर शहनाई

छतहार से एक खुशखबर की आई है। छतहार निवासी ब्रजेश कुमार मिश्र उर्फ सिंटू बाबू का बीती रात यानी सोमवार २२ नवंबर को शुभ तिलकोत्सव धूमधाम से संपन्न हुआ। तिलकोत्सव में सिंटू बाबू के निकटतम परिजनों के अलावा सजातीय और गांव के लोगों ने हिस्सा लिया। विवाह की तारीख अभी तय नहीं है। माना जा रहा है कि अगले साल फरवरी या मार्च का मुहूर्त निकाला जा रहा है। छतहार ब्लॉग की तरफ से सिंटू बाबू को जिंदगी की नई पारी के लिए हार्दिक शुभकामनाएं।

Saturday, November 6, 2010

छतहार में मेला शुरू

शिवाला में मां काली की पूजा के साथ छतहार में सालाना मेला शुरू हो गया। दीवाली की रात शिवाला में परंपरागत तरीके से मां की काली की पूजा हुई और सात पाठों की निशा बलि दी गई। हर साल दीवाली के अगले रोज से भैया दूज के दिन तक छतहार में मेला लगता है। मेले की तैयारी एक दिन पहले से ही शुरू हो गई थी। मिठाई की कुछ दुकानें दीवाली की सुबह ही सज गई थीं, लेकिन आज सुबह से मेले में रौनक बढ़ती गई।

छतहार में दीवाली पर मातम

जब पूरा देश दीवाली के जश्न में डूबा हुआ था, छतहार में मातम पसरा था। दीवाली के दिन एक हादसे में गांव के दस साल के छात्र हर्ष कुमार राय की मौत हो गई। कहा जाता है कि श्री गिरीन्द्र प्रसाद राय का पुत्र हर्ष दोपहर करीब दो बजे से लापता था। घरवालों ने काफी ढूंढ़ा, नहीं लेकिन वो नहीं। तब लोगों ने सोचा कि हो सकता है कहीं खेलने निकल गया हो। लेकिन, शाम चार बजे गांव की एक महिला जब पुस्तकालय के पास गोयठा ठोंकने गई तो हर्ष को बिजली की तार से लिपटा हुआ पाया। महिला ने तुरंत शोर मचाकर लोगों को इकट्ठा किया। किसी तरह तार से हर्ष के शरीर को अलग किया गया, लेकिन तब तक हर्ष का जिस्म बेजान हो चुका था। माना जाता है कि हर्ष शौच करने गया था और बिजली की तार की चपेट में आ गया।
हर्ष के आकस्मिक निधन पर छतहार शोकाकुल है। भगवान से प्रार्थना है कि हर्ष की आत्मा को शांति मिले और उनके घरवालों को दुखों का सामना करने की शक्ति मिले।

Wednesday, November 3, 2010

धनतेरस और दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं

छतहार के समस्त लोगों को धनतेरस और दीवाली की हार्दिक शुभकामनाएं। दीवाली शुभ हो। मां लक्ष्मी आप पर सुख और समृद्धि की वर्षा करें, यही हमारी कामना है। हमारी अपील है कि दीवाली खुशी का त्योहार है और आप इसे मिठाई और आतिशबाजी के साथ इसका जश्न मनाएं। इस जश्न में नशे और जुए को फटकने ना दें क्योंकि इसमें बर्बादी के सिवा कुछ नहीं।
दीवाली पर छतहार के लोगों के नाम मुखियाजी श्री मनोज कुमार मिश्र का संदेश आया है। पेश है आपके लिए।
video