आपसे निवेदन

आप चाहे छतहार में रहते हों या छतहार से बाहर, अगर आपका रिश्ता छतहार से है तो ये ब्लॉग आपका है। हम चाहते हैं कि आप छतहार के बारे में अपनी जानकारी, अपनी भावना, अपने विचार हमसे बांटें। आप अगर छतहार से बाहर रहते हैं और जिंदगी की आपाधापी में छतहार से आपका रिश्ता टूट चुका है तो हम चाहते हैं कि आप अपने बारे में हमें जानकारी भेजें ताकि ब्लॉग में हम उसे पोस्ट कर छतहार से आपका रिश्ता जोड़ सकें। हमारा मकसद इस ब्लॉग को छतहार का इनसाइक्लोपीडिया बनाना है। दुनिया के किसी भी हिस्से में बैठा कोई शख्स छतहार के बारे में अगर कोई जानकारी चाहे तो उसे अपने गांव की पक्की सूचना मिल सके। ये आपके सहयोग के बगैर संभव नहीं है। हमें इस पते पर लिखे- hkmishra@indiatimes.com

Sunday, March 28, 2010

छतहार के होली गीत 3

शिव गंगा गोहराए जो
शिव गंगा गोहराए
महादेव के जटा के ऊपर शिव गंगा गोहराए
कौन लाए गंगा जमुना
कौन लाए गंगा ना रे
महादेव के जटा के ऊपर शिव गंगा गोहराए
कौन लाए त्रिवेणी जो
कौन लाए त्रिवेणी ना रे
महादेव के जटा के ऊपर शिव गंगा गोहराए
भागीरथ लाए गंगा जमुना
भागीरथ लाए गंगा ना रे
महादेव के जटा के ऊपर शिव गंगा गोहराए
गंगा लाए त्रिवेणी जो
गंगा लाए त्रिवेणी ना रे
महादेव के जटा के ऊपर शिव गंगा गोहराए
काहे करण को गंगा जमुना
काहे करण को गंगा ना रे
महादेव के जटा के ऊपर शिव गंगा गोहराए
काहे करण को त्रिवेणी जो
काहे करण को त्रिवेणी ना रे
महादेव के जटा के ऊपर शिव गंगा गोहराए
पाप करण का गंगा जमुना
पाप भरन को गंगा ना रे
महादेव के जटा के ऊपर शिव गंगा गोहराए
धर्म करण को त्रिवेणी जो
धर्म करण को त्रिवेणी ना रे
महादेव के जटा के ऊपर शिव गंगा गोहराए

सौजन्य- श्री लखन चौधरी

7 comments:

  1. bahut sunder lok git hai...
    apke prayas ke liye shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  2. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  3. आपके ब्लॉग पर आकर कुछ तसल्ली हुई.ठीक लिखते हो. सफ़र जारी रखें.पूरी तबीयत के साथ लिखते रहें.टिप्पणियों का इन्तजार नहीं करें.वे आयेगी तो अच्छा है.नहीं भी आये तो क्या.हमारा लिखा कभी तो रंग लाएगा. वैसे भी साहित्य अपने मन की खुशी के लिए भी होता रहा है.
    चलता हु.फिर आउंगा.और ब्लोगों का भी सफ़र करके अपनी राय देते रहेंगे तो लोग आपको भी पढ़ते रहेंगे.
    सादर,

    माणिक
    आकाशवाणी ,स्पिक मैके और अध्यापन से सीधा जुड़ाव साथ ही कई गैर सरकारी मंचों से अनौपचारिक जुड़ाव
    http://apnimaati.blogspot.com


    अपने ब्लॉग / वेबसाइट का मुफ्त में पंजीकरण हेतु यहाँ सफ़र करिएगा.
    www.apnimaati.feedcluster.com

    ReplyDelete
  4. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  5. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

    कलम के पुजारी अगर सो गये तो

    ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    ReplyDelete
  6. सुंदर प्रस्तुति ..........
    इसे जारी रखे .......

    ReplyDelete